Published On: Tue, Jun 11th, 2019

कलेक्टरों की रिपोर्ट ने बताया बिजली कटौती का सच, कैबिनेट में भी हो सकती पावर कट और जल संकट पर चर्चा

Share This
Tags

भोपाल। मुख्यमंत्री कमल नाथ प्रदेश में अघोषित बिजली कटौती और जल संकट को लेकर खासे चिंतित हैं। बिजली की स्थिति पर खुद नजर रख रहे मुख्यमंत्री ने सभी जिलों के कलेक्टरों और ऊर्जा विभाग से बिजली गुल होने और इसके कारणों की रिपोर्ट मांगी है। मुख्यमंत्री ने सोमवार देर शाम भी आला अधिकारियों के साथ बिजली की स्थिति को लेकर चर्चा की। आज शाम होने वाली कैबिनेट की बैठक में भी बिजली की समस्या और पानी की किल्लत पर चर्चा हो सकती है। इन दिक्कतों से पार पाने की कार्ययोजना पर भी इस दौरान विचार किया जाएगा।
लोकसभा चुनाव के बाद नाथ कैबिनेट की दूसरी बैठक आज शाम छह बजे से मंत्रालय में होगी। इसमें एजेंडे में शामिल प्रस्तावों के साथ ही मुख्य मुद्दा बिजली और पानी का रहने वाला है। मुख्यमंत्री इसे लेकर जिलों से आई रिपोर्ट के आधार पर मंत्रियों से भी उनके प्रभार के जिले और गृह जिले की स्थिति पूछ सकते हैं। कल हुई बैठक में निकल कर सामने आया है कि प्रदेश में बिजली की कमी नहीं है, लेकिन समय पर मेंटनेंस न होने और घटिया उपकरणों के उपयोग के कारण भीषण गर्मी की स्थिति में बिजली गुल हो रही है। वहीं पेयजल व्यवस्था पर भी इस दौरान चर्चा हो सकती है।
कैबिनेट राज्य लोकसेवा आयोग के माध्यम से होने वाली भर्तियों की आयुसीमा के संबंध में संशोधन कर सकती है। इस संशोधन से प्रदेश के बाहर के युवा भी यहां 35 साल की आयु तक नौकरी हासिल कर सकेंगे। पिछली सरकार ने इनके लिए 28 साल आयु निर्धारित की थी, जिसे सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दी गई थी। सर्वोच्च अदालत के निर्देशों के आधार पर यह संशोधन किया जाएगा। यहां बता दें कि मध्यप्रदेश के निवासियों के लिए पीएससी परीक्षा के लिए निर्धारित आयु 42 साल है। कैबिनेट नए बने जिले निवाड़ी के लिए ट्रेजरी और लोक सेवा प्रबंधन के पदों का निर्माण का निर्णय ले सकती है।

Spread the love

About the Author

Leave a comment

You must be Logged in to post comment.