Published On: Sat, Apr 6th, 2019

छिंदवाड़ा में नकुल को भाजपा का सेफ पैसेज!

Share This
Tags

भोपाल। प्रदेश की बाकी बची 11 सीटों के लिए उम्मीदवार का चयन भाजपा के लिए खासा मुश्किल काम साबित हो रहा है। पार्टी प्रदेश में पहले चरण के मतदान वाली छिंदवाड़ा लोकसभा और उपचुनाव वाली विधानसभा सीट के लिए अभी तक संभावित प्रत्याशियों पर ही मंथन कर रही है। दूसरी तरफ भोपाल में कांग्रेस के दिग्विजय सिंह के मुकाबले एक बार फिर शिवराज सिंह चौहान का नाम आगे आया है। प्रबल संभावना है कि अब दोनों पूर्व मुख्यमंत्री आमने-सामने होंगे।
कांग्रेस के किले ही नहीं भाजपा को अब अपने मजबूत गढ़ों में भी प्रत्याशी चयन को लेकर दिक्कत हो रही है। जिसके चलते पार्टी में ही अब नेता तंज कसने लगे हैं कि भाजपा छिंदवाड़ा में नकुल नाथ और भोपाल में दिग्विजय सिंह को वॉकओवर देने की तैयारी कर रही है। छिंदवाड़ा में नौ अप्रैल तक ही नामांकन दाखिल होने हैं और भाजपा किसी एक नाम पर एकमत नहीं है। वहां से अब पूर्व सांसद अनुसुइया उइके, पूर्व विधायक नथन शाह कवरेती और बंटी साहू के नाम विचार में हैं। विधानसभा उपचुनाव के लिए कन्हईराम रघुवंशी पर पार्टी फोकस कर रही है। लेकिन टिकट किसे मिलेगा और कब मिलेगा यह अभी तक तय नहीं हुआ। पिछले चुनावों में छिंदवाड़ा में टक्कर देने वाले चौधरी चंद्रभान सिंह ने इस बार चुनाव नहीं लड़ने का ऐलान कर रखा है। स्थिति यह है कि भोपाल और छिंदवाड़ा में कांग्रेस उम्मीदवारों ने एक दौर में सभी विधानसभा क्षेत्रों में अपने प्रचार का काम पूरा कर लिया है। नकुल नाथ रोज पांच से छह स्थानों पर पहुंच रहे हैं तो दिग्विजय सिंह भी कार्यकर्ता बैठकों का क्रम पूरा कर चुके हैं।
भोपाल में भी भाजपा को दिग्विजय सिंह को टक्कर दे सकने वाले प्रत्याशी की तलाश में मुश्किल आ रही है। हां-ना के बाद एक बार फिर पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान का नाम संघ की तरफ से सामने आया है। उनके अलावा मुरैना से प्रत्य़ाशी केंद्रीय मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर, प्रदेश महामंत्री वी.डी.शर्मा, महापौर आलोक शर्मा और सांसद आलोक संजर भी रेस में हैं। यही हाल इंदौर, सागर और खजुराहो में है। इंदौर में सुमित्रा महाजन के चुनाव मैदान से हटने के बाद अब वहां किसी एक नाम पर सहमति टेढ़ी खीर साबित हो रही है।

Spread the love

About the Author

Leave a comment

You must be Logged in to post comment.