Published On: Sat, Apr 6th, 2019

नर्मदा के बाद अब ओंकारेश्वर परिक्रमा करेंगे ‘हिंदूपत’ दिग्विजय

Share This
Tags

भोपाल। कांग्रेस के लिए सबसे कठिन सीट भोपाल से चुनाव मैदान में उतरे पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह अब हिंदुवादी छवि को और मजबूत करने के जतन में जुटे हैं। दिग्विजय अपना चुनाव कार्यालय नवरात्र के बीच शुरू करने जा रहे हैं तो नामांकन दाखिले के लिए उन्होंने हनुमान जयंती का दिन चुना है। वे 19 अप्रैल को पर्चा जमा करेंगे।
दिग्विजय सिंह अपने बयानों को लेकर हमेशा भाजपा के निशाने पर रहे हैं। भाजपा नेता उन्हें हिंदू विरोधी साबित करने का कोई मौका नहीं छोड़ना चाहते। इस बीच विधानसभा चुनाव से पहले 3300 किमी की कठिन नर्मदा परिक्रमा कर उन्होंने खुद पर लगी छाप को बदलने की कोशिश की है। राघौगढ़ किले में स्थित विजयराघव भगवान के भक्त दिग्विजय भोपाल में चुनाव प्रचार के दौरान लगभग हर धार्मिक कार्यक्रम में शामिल हो रहे हैं तो मंदिरों के दर्शन करने से भी नहीं चूक रहे। बीते एक सप्ताह में ही वे भोपाल संसदीय क्षेत्र के ज्यादातर प्रमुख मंदिरों में माथा टेक चुके हैं। अब उन्होंने अपने नामांकन के लिए भी रामभक्त हनुमान की जयंती का दिन चुना है। वे इस दिन हनुमान मंदिर में दर्शन कर अपना पर्चा दाखिल करेंगे।
कल करेंगे ओंकारेश्वर परिक्रमा
भोपाल में चुनाव प्रचार के बीच गुड़ी पड़वा और नवरात्रि के लिए दिल्ली गए दिग्विजय सिंह आज व्रत और पूजा पाठ के बाद रात को ओंकारेश्वर पहुंचेंगे। वे कल सुबह ओंकारेश्वर की परिक्रमा करने के साथ नर्मदा पूजन करेंगे। वे संत सिंगाजी धाम पर भी दर्शन पूजन करेंगे।

बेटे ने दिया हिंदूपत नाम
दिग्विजय सिंह के बेटे और कमल नाथ सरकार में नगरीय विकास एवं आवास मंत्री जयवर्धन सिंह उन्हें हिंदूपत की पदवी देते हैं। यह नाम दिग्विजय सिंह के पूर्वजों को उनके धार्मिक कार्य और मंदिरों के निर्माण के चलते मिला था। उनके करीबी बताते हैं कि पूर्व मुख्यमंत्री के दिन की शुरूआत ध्यान योग और नियमित पूजा-पाठ के साथ होती है। वे नवरात्रि पर उपवास रखते रहे हैं। प्रत्येक एकादशी का व्रत भी वे करते हैं और सिर्फ फलाहार लेते हैं। गुरूवार का व्रत भी वे सालों से रखते आ रहे हैं। आषाड़ी एकादशी पर महाराष्ट्र के पंढरपुर स्थित विठोबा भगवान के दर्शन करने का क्रम भी उनका कई सालों से चल रहा है।
—–
दिग्विजय सिंह जी ने 3300 किलोमीटर की नर्मदा परिक्रमा कर मां नर्मदा की कठोर साधना की है। ये ढोंगी लोगों के बस की बात नहीं है, जो धर्म का राजनैतिक उपयोग करने में विश्वास रखते है। हमें हिंदूपत के नाम से जाना जाता है। लेकिन हमने राजनीति के लिए इस उपाधि का उपयोग नहीं किया।
– जयवर्धन सिंह (गोविंदपुरा के कार्यकर्ता सम्मेलन में)

Spread the love

About the Author

Leave a comment

You must be Logged in to post comment.

Contact Us

  • Khabar Dhamaka
  • https://www.khabardhamaka.com
  • Madhya Pradesh Office –
  • Junior MIG-B-81 Rajeev Nagar, Bhopal M.P
  • Chattisgarh Office –
  • Editor – Manish Pathak
  • Office Contact No.- 9039938883
  • Email – khabardhamaka2@gmail.com