Published On: Tue, May 15th, 2018

ये विजय अभूतपूर्व है, BJP सिर्फ हिंदी क्षेत्र की पार्टी नहीं: पीएम मोदी

Share This
Tags

कर्नाटक में त्रिशंकु विधानसभा की स्थिति के बीच राज्य के अधिकतर दिग्गज नेता अपना गढ़ बचाने में कामयाब रहे, हालांकि राज्य के दस निवर्तमान मंत्रियों को शिकस्त का सामना करना पड़ा। चामुंडेश्वरी सीट पर निवर्तमान मुख्यमंत्री सिद्धरमैया को भी करारी हार झेलनी पड़ी। हालांकि वह मामूली अंतर से बादामी सीट बचाने में कामयाब रहे। भाजपा के मुख्यमंत्री पद के उम्मीदवार बी एस येदियुरप्पा शिकारीपुरा सीट जीतने में कामयाब रहे और जेडीएस के नेता एचडी कुमारस्वामी भी रामनगर और चन्नापटना से जीत हासिल की।

राज्य सरकार के मंत्रियों की बात करें तो टी नरसीपुरा सीट पर सिद्धरमैया के करीबी एच सी महादेवप्पा को हार का सामना करना पड़ा। उन्हें जेडीएस के एम अश्विन कुमार को हराया। इसके अलावा रामनाथ राय, एच अंजान्या, एस पी आर पाटिल, एसएस मल्लिकार्जुन, कादुगो थिमप्पा, बी रायारेड्डी, आर लमानी और प्रमोद माधवराज को भी हार का सामना करना पड़ा।

एस आर पाटिल को हार का सामना करना पड़ा

अन्य प्रमुख कांग्रेस नेताओं में कर्नाटक के निर्वतमान गृह मंत्री रामलिंग रेड्डी, आर. रोशन बेग, एन ए हैरिस, सिद्धरमैया के बेटे यतीन्द्र एस और लोकसभा में कांग्रेस के नेता मल्लिकार्जुन खड़गे के पुत्र प्रियांग खड़गे ने जीत दर्ज की। हालांकि वरिष्ठ पार्टी नेता एस आर पाटिल को हार का सामना करना पड़ा। भाजपा के वरिष्ठ नेता और पूर्व उपमुख्यमंत्री के एस ईश्वरप्पा ने अपने निकटतम प्रतिद्वंद्वी कांग्रेस के के.बी.प्रसन्न कुमार को 46,107 मतों के भारी अंतर से हराया।

विवादित रेड्डी बंधु भी जीते

विवादित रेड्डी बंधुओं ने भी जीत दर्ज की। बेल्लारी सिटी से भाजपा उम्मीदवार जी. सोमशेखर रेड्डी ने अपने निकटतम प्रतिद्वंद्वी कांग्रेस के अनिल एच लाड को 16,155 मतों से पराजित किया। उनके भाई और भाजपा उम्मीदवार जी. करुणाकर रेड्डी ने हरपनहल्ली सीट से कांग्रेस के एम पी रवीन्द्र को 9647 वोटों से हराया। जेडीएस के जी टी देवगौड़ा ने सिद्धरमैया को 36,042 वोटों से हराया। हालांकि बादामी सीट पर निवर्तमान मुख्यमंत्री को मामूली अंतर से जीत मिली। इस सीट पर उन्होंने भाजपा के बी. श्रीरामुलू को 1,696 मतों के अंतर से हराया।

सिद्धरमैया के बेटे यतीन्द्र एस ने वरुना सीट जीती

निवर्तमान मुख्यमंत्री सिद्धरमैया के बेटे यतीन्द्र एस ने वरुना सीट जीती। उन्होंने भाजपा के टी बसावराजू को 58,616 मतों से हराया। वहीं येदियुरप्पा ने शिकारीपुरा सीट से अपने निकटतम प्रतिद्वंद्वी कांग्रेस के गोनी मालतेसा को 35,397 मतों के अंतर से हराया।

कांग्रेस-जेडीएस के नेता राज्यपाल से मिले

कांग्रेस और जेडीएस के नेताओं ने आज यहां राज्यपाल वजुभाई वाला से मुलाकात की और कर्नाटक में जेडीएस के नेतृत्व वाली सरकार बनाने का दावा पेश किया। निर्वतमान मुख्यमंत्री सिद्धारमैया , वरिष्ठ कांग्रेसी नेता गुलाम नबी आजाद और मल्लिकार्जुन खड़गे ने जेडीएस के प्रदेश प्रमुख एच डी कुमारस्वामी समेत दोनों पार्टियों के नेताओं ने वाला से मुलाकात की और सरकार गठन के लिये मौका दिये जाने का अनुरोध किया।

राज्यपाल से बैठक के बाद कुमारस्वामी ने कहा , ” चर्चा के बाद अखिल भारतीय कांग्रेस पार्टी के नेताओं ने हमारी पार्टी के अध्यक्ष को समर्थन देने का पत्र दिया … अपनी पार्टी की तरफ से कांग्रेस नेताओं के साथ हमने राज्यपाल से कांग्रेस के समर्थन से सरकार बनाने का अवसर देने का अनुरोध किया। दो निर्दलीय विधायकों का भी हमें समर्थन है।

जेडीएस नेता ने कहा कि  राज्यपाल ने उन्हें बताया कि वह निर्वाचन आयोग से अधिकृत नतीजे आने के बाद इस पर फैसला लेंगे। कांग्रेस – जेडीएस के इस कदम की काट के लिये भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष बी एस येदियुरप्पा भी वाला से मिले और सरकार बनाने का दावा पेश किया। सिद्धारमैया ने कहा कि अब तक घोषित नतीजों के मुताबिक हमारे आंकड़े ज्यादा हैं और हमनें राज्यपाल के संज्ञान में भी यह बात डाल दी है । हमें उम्मीद है कि निर्वाचन आयोग से आधिकारिक जानकारी आने के बाद राज्यपाल कानूनी ढांचे के तहत फैसला लेंगे।

 

About the Author

Leave a comment

You must be Logged in to post comment.

वीडियो