Published On: Sun, Feb 10th, 2019

संस्कारित समाज के लिए सकारात्मक विचार,व चरित्रवान व्यक्तित्व आवश्यक है:राज्यपाल

Share This
Tags

  भोपाल। बच्चे देश का भविष्य होते हैं, उनको शिक्षा के साथ संस्कारों और जीवन के नैतिक मूल्य का ज्ञान भी दिया जाना चाहिए। संस्कारित समाज के लिए सकारात्मक विचार, उदार हृदय और चरित्रवान व्यक्तित्व आवश्यक है। यह बातें       राज्यपाल आनंदीबेन पटेल ने सत्यसाईं महिला महाविद्यालय के वार्षिकोत्सव मेें कहीं।  इस अवसर पर जनसम्पर्क, विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी और विधि-विधायी कार्य मंत्री पी.सी. शर्मा भी मौजूद थे। राज्यपाल श्रीमती पटेल ने कहा कि भारत सिद्ध महापुरूषों और ऋषियों-मुनियों की धरती है। उन्होंने सत्यसाईं बाबा से आशीर्वाद प्राप्त करने के विभिन्न अवसरों का उल्लेख करते हुए कहा कि बाबा ने अपने कार्यों से यह सिद्ध किया कि संकल्पित इच्छा शक्ति और सेवा भाव से किये गये कार्य सदैव सफल होते हैं। उन्होंने छात्राओं से कहा कि प्रकृति को आप जितना देंगे, उसका दोगुना प्रकृति आपको देगी।

सरकार महिला सशक्तिकरण के लिए ठोस प्रयास कर रही है: पीसी शर्मा

जनसम्पर्क, विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी और विधि-विधायी कार्य मंत्री  पी.सी. शर्मा ने कहा कि सरकार महिला सशक्तिकरण के लिए ठोस प्रयास कर रही है। महिलाओं को जीवन के सभी क्षेत्रों में आगे बढ़ने के लिए प्रोत्साहित किया जा रहा है। उन्होंने बताया कि सरकार द्वारा बेटियों के विवाह में आय, जाति, धर्म का भेदभाव किये बिना 51 हजार रूपये की आर्थिक सहायता उपलब्ध कराई जा रही है। रोजगार के नए अवसर सृजित करने के लिए प्रदेश में निवेश के लिये अनुकूल वातावरण बनाया जा रहा है, बुनियादी सुविधाएँ जुटाई जा रही हैं। उन्होंने बताया कि भोपाल को देश के प्रमुख शहरों से हवाई सेवा से सीधे जोड़ने का कार्य भी तेजी से हो रहा है। हैदराबाद के लिए सीधी वायु सेवा प्रारंभ हो गई है।

राज्यपाल ने वार्षिकोत्सव में जन्म दिवस पर उनको प्राप्त पुस्तकों में से 366 पुस्तकें जरूरतमंद बच्चों और विद्यालयों को प्रदान कीं। उन्होंने छात्राओं को पुरस्कार भी प्रदान किये।

 

Spread the love

About the Author

Leave a comment

You must be Logged in to post comment.