Published On: Wed, Feb 21st, 2018

स्वच्छता सर्वेक्षण 2018 : सर्वे टीम 18 बिंदुओं पर परखी सफाई

Share This
Tags

इंदौर। स्वच्छता सर्वेक्षण 2018 के तहत डायरेक्ट ऑब्जर्वेशन के लिए केंद्र सरकार की टीम शहर आ चुकी है। 4000 अंकों के सर्वे में अगले चार-पांच दिन बारीकी से सफाई और उससे संबंधित हर इंतजाम को कसौटी पर कसा जाएगा। सर्वे टीम इस श्रेणी के तहत 18 बिंदुओं पर सफाई का आकलन करेगी। इसके लिए टीम के सदस्य कॉलोनियों, बस्तियों, अनियोजित-नियोजित क्षेत्रों, बाजारों, बस स्टैंड, रेलवे स्टेशन और पटरियों के आसपास घूमेगी। कम्युनिटी और पब्लिक टॉयलेट की सफाई, लाइट, ड्रेनेज सिस्टम आदि की भी गहन जांच की जाएगी। अकेले टीम के डायरेक्ट ऑब्जर्वेशन को सर्वे में 1200 नंबर दिए गए हैं। इस मायने में सर्वे टीम जो देखेगी और जो रिपोर्ट करेगी, उसका रैंकिंग में अहम रोल होगा। यदि सभी जगह चाक-चौबंद इंतजाम मिलते हैं तो शहर को पूरे या ज्यादा से ज्यादा नंबर मिलने की संभावना बढ़ेगी।

इन बिंदुओं पर परखेंगे इंतजाम

कॉलोनियों, बस्तियों, पुराना शहर, अव्यवस्थित और व्यवस्थित बसा क्षेत्र साफ है या नहीं? , क्या पब्लिक और कम्युनिटी टॉयलेट महिलाओं और पुरुषों के लिए अलग-अलग बनाए गए हैं? क्या उन्हें बच्चों के इस्तेमाल करने लायक बनाया गया है?

क्या टॉयलेट साफ-सुथरे हैं? वहां रोशनदान, जलप्रदाय, फ्लश और लाइट कनेक्शन है या नहीं?

टॉयलेट में उपयोग होने वाले पानी के निस्तारण के लिए व्यवस्थित ड्रेनेज सिस्टम है या नहीं? कहीं पानी खुली नालियों से बहकर तो नहीं जा रहा या सड़क पर तो नहीं फैल रहा?

टॉयलेट में केंद्रीय शहरी विकास मंत्रालय द्वारा बताई गई डिजाइन के अनुसार स्वच्छ भारत मिशन का संदेश देने वाले होर्डिंग, बैनर, वॉल पेंटिंग आदि लगाए गए हैं या नहीं?

क्या शहर के व्यावसायिक क्षेत्र साफ-सुथरे हैं?

सब्जी, फल, मीट या फिश मार्केट में साइट कंपोस्टिंग, वेस्ट ट्रांसफर स्टेशन और प्राइमरी वेस्ट कलेक्शन सेंटर बनाए गए हैं या नहीं?

. बाजारों में बड़े और दूर से दिखने वाले सफाई संबंधी साइन बोर्ड लगे हैं या नहीं?

. शहर के सबसे बड़े रेलवे स्टेशन और उसके आसपास का इलाका साफ है या नहीं?

मुख्य रेलवे स्टेशन क्षेत्र की हर दुकान में लिटरबिन लगाए गए हैं या नहीं?

मुख्य स्टेशन पर रेलवे ट्रैक या प्लेटफॉर्म के आसपास 500 मीटर क्षेत्र में कहीं खुले में शौच तो नहीं की जा रही?

शहर का मुख्य बस स्टैंड साफ-सुथरा है या नहीं?

बस स्टैंड की हर दुकान पर लिटरबिन लगाए गए हैं या नहीं?

मुख्य बस स्टैंड में बने टॉयलेट महिलाओं, पुरुषों के लिए अलग-अलग हैं या नहीं? बच्चे उनका इस्तेमाल कर सकते हैं कि नहीं?

टॉयलेट में अच्छी सफाई है या नहीं। वहां रोशनदान, जलप्रदाय सिस्टम, फ्लश और बिजली कनेक्शन है या नहीं?

टॉयलेट में उपयोग होने वाले गंदे पानी के निस्ताकरण के लिए व्यवस्थित सीवरेज सिस्टम है या नहीं?

टॉयलेट में स्वच्छ भारत मिशन से संबंधित होर्डिंग, बैनर, वॉल पेंटिंग्स मंत्रालय के दिशा निर्देश के मुताबिक लगाए गए हैं या नहीं?

वेस्ट ट्रीटमेंट या प्रोसेसिंग प्लांट के आसपास स्वच्छता सर्वेक्षण से संबंधित कम से कम एक होर्डिंग लगा है या नहीं?

About the Author

Leave a comment

You must be Logged in to post comment.