Published On: Fri, Apr 6th, 2018

AMU: मेडिकल कॉलेज में नौवें दिन भी हड़ताल जारी, अब तक 26 मरीजों की मौत

Share This
Tags

अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी के जवाहर लाल नेहरू मेडिकल कॉलेज में जूनियर रेजिडेंट्स की लगातार नौवें दिन हड़ताल जारी है। हड़ताली डॉक्टर अपनी मांग पर अडिग है। उन्होंने चेतावनी दी कि जब तक मांगें पूरी नहीं होगी, हड़ताल खत्म नहीं होगी। इस दौरान गुरुवार को एक और मरीज ने इलाज न मिलने के चलते तड़पकर दम तोड़ दिया। स्थिति यह है कि हड़ताल के दौरान अब तक 26 से ज्यादा मरीज़ दम तोड़ चुके है। हड़ताल में करीब साढ़े चार सौ जूनियर डॉक्टर शामिल है। ड्यूटी के दौरान डॉक्टर आशा और एएमयू के कैबिनेट मेंबर जैद शेरवानी के बीच मामूली कहासुनी को बड़ा रुप दिया गया है। शुरुआत में माना जा रहा था कि डॉक्टरों की हड़ताल एक या दो दिन ही चलेगी। क्योंकि मेडिकल कॉलेज पश्चिमी उत्तर प्रदेश का बड़ा मेडिकल कॉलेज है। जहां विभिन्न जिलों से मरीज इलाज कराने पहुंचते है। लेकिन यह हड़ताल खत्म होने का नाम नहीं ले रही है। हड़ताल को आज नौंवां दिन है। लेकिन हड़ताली डॉक्टर किसी सूरत में मानने को तैयार नहीं है। उनका कहना है कि जब तक जैद शेरवानी का निलंबन नहीं होगा, हड़ताल जारी रहेगी। जिला प्रशासन द्वारा तमाम चेतावनी और एएमयू प्रशासन की चेतावनी के बाद भी हड़ताली डॉक्टर अपनी बात पर अडिग है।

गुरुवार को भी कई बार चिकित्सकों को समझाने का प्रयास किया गया। लेकिन वह नहीं माने। उनका कहना हैं कि हड़ताल तभी वापस होगी, जब उनकी मांग को मान लिया जाएगा। डॉक्टरों की हड़ताल के चलते मेडिकल कॉलेज पहुंचने वाले मरीजों का हाल बेहाल है। पिछले एक सप्ताह से ज्यादा समय से मरीज तड़पने को मजबूर है। इलाज के अभाव में वह इधर उधर भटक रहे है। लेकिन इलाज नहीं मिल पा रहा है। आरडीए के अध्यक्ष ड़क्टर अब्दुल्लाह आजमी ने कहा है कि जब तक आरडीए की सभी मांगों को पूरा नहीं कर लिया जाता, तब तक हड़ताल वापस नहीं ली जाएगी।

क्या है मामला
हड़ताल पर गए जूनियर डॉक्टरों की मांग है कि एएमयू कोर्ट के सदस्य जैद शेरवानी को निलंबित किया जाए तभी वे हड़ताल वापस लेंगे। गौरतलब है कि जैद शेरवानी पर जूनियर डॉक्टर आशा ने अभद्रता का आरोप लगाया था, जिसके बाद से जूनियर डॉक्टर हड़ताल पर चले गए। वहीं कोर्ट मेंबर इस मामले में चुप्पी साधे हुए हैं। उनका कहना है कि मामूली सी कहासुनी को बेवजह तूल दिया गया है। इस मामले में प्रशासन ने भी एस्मा लगाने की बात कही थी लेकिन अभी तक कोई कार्रवाई नहीं हुई है।

केंद्रीय जांच एजेंसी ने भेजी आरडीए के खिलाफ जांच

केंद्रीय जांच एजेंसी ने एएमयू के जवाहर लाल नेहरू मेडिकल कॉलेज में जूनियर रेजिडेंट्स की हड़ताल का संज्ञान लिया। एजेंसी ने डॉक्टरों के खिलाफ रिपोर्ट तैयार कर जांच रिपोर्ट तैयार कर हाईकमान को भेजी है। माना जा रहा है कि हड़ताली डॉक्टरों के खिलाफ जल्द ही कोई बड़ी कार्रवाई की जा सकती है।

बोले मरीज

कासगंज के पटियाली निवासी आरिफ का दो माह पहले ऑपरेशन हुआ था। गुरुवार सुबह वे डॉक्टर से मिलने आये लेकिन हड़ताल होने पर उन्हें मायूस होना पड़ा।वहीं अलीगढ़ के जयगंज निवासी विजय कुमार भी सुबह से अपनी कैंसर से सम्बंधित रिपोर्ट के इंतजार में बैठे हैं, लेकिन उनकी कोई सुनने वाला नहीं।

About the Author

Leave a comment

You must be Logged in to post comment.